Haryana21.com Present

     
Jind News - Jind Update

 

 

श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने जींद में लगभग 1338 करोड़ रुपये की विभिन्न परियोजनाओं की शुरूआत की

 
 
June 3, 2012

 हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने आज जींद में विकास की नई इबारत लिखते हुए, जहां एक ही मंच से लगभग 1338 करोड़ रुपये की विभिन्न परियोजनाओं की शुरूआत की और लगभग सैंकड़ों करोड़ रुपये से अधिक की नई परियोजनाओं की घोषणाओं का पिटारा खोला, वहीं केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री सी.पी. जोशी ने बताया कि हरियाणा में उनके मंत्रालय द्वारा दस हजार करोड़ से अधिक की परियोजनाओं की शुरूआत की गई है, जबकि एन.डी.ए. के कार्यकाल में विकास परियोजनाओं के नाम पर हरियाणा में कुछ नहीं किया। मुख्यमंत्री श्री हुड्डा ने घोषणा की कि जींद में राष्ट्रीय स्तर के हरियाणा इंस्टीट्यूट आफ एजुकेशन, ट्रेनिंग एंड रिसर्च बनाया जायेगा और यह संस्थान विश्वविद्यालय से बड़ा होगा। इसके अलावा, जींद जिले के शहरों तथा गांवों के विकास पर 50 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खर्च की जायेगी। जींद की विकास रैली में भारी जनसैलाब उमड़ा और नई अनाज मंडी का विशाल मैदान छोटा पड़ गया, जिससे उत्साहित मुख्यमंत्री ने जींद की जनता के लिए घोषणाओं और नई परियोजनाओं की झड़ी लगा दी। मुख्यमंत्री ने जींद के अस्पताल को 100 बिस्तर से बढ़ाकर 200 बिस्तर करने तथा अस्पताल में एएनएम एवं जीएनएम पाठ्यक्रमों का कालेज, जींद के सेक्टर-9 में 7.5 करोड़ रुपये की लागत से एक जिमखाना क्लब, जींद में 250 एकड़ भूमि पर इंडस्ट्रीयल इस्टेट विकसित, जींद शहर के बस अड्डे को सिटी बस स्टैंड और नया मुख्य बस अड्डा, शहर के अर्जुन स्टेडियम की जगह राजीव गांधी पार्क विकसित करने, शहर के रानी तालाब का सौंदर्यकरण, जींद में सीवरेज प्रणाली को दुरूस्त बनाने के लिए 24 करोड़ रुपये खर्च, ड्रेनेज के लिए 21 करोड़ रुपये, 20 करोड़ रुपये की लागत से सेक्टर-9 में अत्याधुनिक खेल परिसर, जींद में 5 करोड़ रुपये की लागत से आधुनिक सुविधओं से सुसज्जित एक वेटनरी पॉलीक्लीनिक, 13 करोड़ रुपये की लागत से लघु सचिवालय का विस्तार, 15 करोड़ रुपये की लागत से भिवानी मार्ग 2 किलोमीटर तक चार मार्गी करने, जींद से पांडुपिंडारा तक 10 करोड़ रुपये की लागत से चार मार्गी करने की घोषणा की। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि जींद में कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय के क्षेत्रीय केन्द्र में शैक्षणिक सत्र 2012-13 के लिए एमए एजुकेशन, एमए मास कम्युनिकेशन, टूरिज्म एवं मैनेजमेंट, एमए संगीत, पोस्ट ग्रेजुएट फिजिकल एजुकेशन, अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में फिजिकल एजुकेशन, होम साइंस की कक्षाएं प्रारंभ होंगी। इनकी कक्षाएं आबकारी एवं कराधान भवन में आयोजित की जायेंगी। उन्होंने हरियाणा ग्रामीण विकास एजेंसी की ओर से गांवों के विकास के लिए 10 करोड़ रुपये, जींद शहर के विकास कार्याें के लिए 20 करोड़ रुपये तथा जींद शहर के साथ लगते गांवों के विकास के लिए 10 करोड़ रुपये तथा  बाकी हलकों सफीदो, नरवाना एवं उचाना के लिए पांच-पांच करोड़ रुपये की घोषणा की। इस रैली में मुख्यमंत्री श्री हुड्डा ने अपनी विकास की दूरदर्शी सोच और प्रदेश के सभी क्षेत्रों को एक साथ लेकर चलने के अपने वायदे को निभाते हुए एक सकारात्मक संदेश दिया। मंच पर जींद के लोगों को विकास की इस नई दौड़ में शामिल करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वे आज जींद के विकास का एक नक्शा लेकर आये है और अगले पांच-छह सालों में हरियाणा के नक्शे पर जींद एक अग्रणीय जिला होगा। उन्होंने कहा कि जींद अब पिछड़ा नहीं रहेगा। विकास की ये परियोजनाएं यहां तरक्की नए रास्ते खोलंेगी। नई सड़क परियोजनाओं से जुड़ने के बाद यहां औद्योगिक निवेश को बल मिलेगा। इससे बड़े-बड़े उद्योग जींद जिले में शामिल होंगे और रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।  हुड्डा ने कहा कि आंकड़े इस बात के गवाह है कि पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में जींद के विकास के लिए क्या कुछ हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि जींद से इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला दो बार विधायक व मुख्यमंत्री रहे बावजूद इसके जींद के विकास में उनका योगदान क्या रहा इस बात की गवाही आंकड़े देते हैं। उन्होंने पिछले सात वर्षों का लेखा-जोखा उपस्थित जनसमूह के समक्ष रखते हुए कहा कि वर्ष 2000 से 2005 तक जींद में विभिन्न विकास कार्यों पर 533.40 करोड़ रुपये की राशि खर्च की गई जबकि वर्ष 2005 से अब तक जींद की विभिन्न विकास परियोजनाओं पर 2151.12 करोड़ रुपये की राशि खर्च की गई। उन्होंने खुला सवाल किया कि चौटाला कोई एक काम बताएं, जो उन्होंने जींद, किसान या कमजोर वर्ग के हित में किया हो। हुड्डा ने कहा कि एन.डी.ए. सरकार के कार्यकाल में केंद्र सरकार की ओर से भी प्रदेश में विकास के लिए कोई परियोजना क्रियान्वित नहीं हुई, जबकि यह यू.पी.ए. सरकार की प्रगतिशील सोच का परिणाम है कि आज पूरे हरियाणा में करीब 12000 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाएं चल रही हैं। इनमें 2 हजार करोड़ रुपए की योजनाएं पूरी हो चुकी हैं। करीब छह हजार करोड़ रुपए की परियोजनाओं पर काम चल रहा है जबकि 4 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाएं स्वीकृत हैं। मुख्यमंत्री श्री हुड्डा द्वारा आज जिन परियोजनाओं का शुभारंभ किया गया, उनमें जींद को राजधानी दिल्ली से सीधा एवं सुगम रास्ता प्रदान करते हुए जींद-रोहतक राजमार्ग को 283 करोड़ 31 लाख रुपये की लागत से चार मार्गी करने की परियोजना प्रमुख है। इस सड़क मार्ग के निर्माण के बाद दिल्ली से जींद की दूरी एक घंटा कम हो जायेगी। इससे यहां औद्योगिक विकास को बल मिलेगा। इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने जींद-उचाना-नरवाना होते हुए पंजाब सीमा तक के राजमार्ग को चार मार्गी बनाने की परियोजना का भी शिलान्यास किया। इस राजमार्ग के चार मार्गी बनने पर लगभग 462 करोड़ रुपये की लागत आयेगी। इस राजमार्ग को रोहतक-दिल्ली राजमार्ग से जोड़ने के लिए जींद शहर के 16 किलोमीटर लंबे बायपास की आधारशिला भी रखी गई। इसके साथ ही राज्य सरकार की 50 प्रतिशत हिस्सेदारी में बन रही 80 किलोमीटर लंबी जींद-गोहाना सोनीपत रेलवे लाईन का शिलान्यास भी किया। लगभग 500 करोड़ रुपये की इस परियोजना पर 250 करोड़ रुपये प्रदेश सरकार खर्च कर रही है। अपने जींद प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री ने हांसी-जींद-असंध सड़क मार्ग, जींद-सफीदों पानीपत सड़क मार्ग एवं जींद-गोहाना-पानीपत सड़क मार्ग पर तीन ऊपरगामी पुलों की भी आधारशिला रखी। नरवाना शहर एवं जींद शहर में रेलवे लाईनों पर दो पुल भी इसी परियोजना के हिस्से के रूप में बनाये जायेंगे। जींद-बठिंडा रेल लाईन पर भी पटियाला चौंक के पास, नरवाना-जींद-रोहतक सड़क मार्ग पर 72 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले ऊपरगामी पुल से जींद शहर के लोगों को खासी राहत मिले। इस मौके पर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री सी.पी. जोशी ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की कार्यशैली को सलाम करते हुए कहा कि उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में पहला ऐसा मुख्यमंत्री देखा है, जो उस क्षेत्र के विकास के लिए 49 डिग्री तापमान में भी मेहनत कर रहे हैं जिस क्षेत्र से उनके विधायक भी नहीं हैं, वहां भी विकास करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा विकास की जिस कल्पना के साथ मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने जिन सड़कों की आधारशिला रखी है, वे कोशिश करेंगे की वे तय समयसीमा में पूरी हों। उन्होंने कहा कि यह मुख्यमंत्री की सही सोच है कि जहां रेल और बेहतर यातायात सुविधाएं होंगी वहां विकास के भी भरपूर अवसर पैदा होंगे। उन्होंने बताया कि वे सांसद श्री दीपेन्द्र सिंह हुड्डा के बुलावे पर यहां आए है और इसके लिए वे उनके धन्यवादी हैं। उन्होंने कहा आज देश में दो तरह की राजनीति हो रही है। एक तरफ वे लोग हैं जो जंतर-मंतर पर अपनी राजनीति करते हैं। दूसरी और चौ. भूपेंद्र सिंह हुड्डा सरीखे लोग हैं जो जून की चिलचिलाती गर्मी के बीच विकास परियोजनाएं लोगों को समर्पित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एन.डी.ए. के कार्यकाल में विकास परियोजनाओं के नाम पर हरियाणा में कुछ नहीं हुआ आज दस हजार करोड़ से अधिक की परियोजनाएं हरियाणा के लिए रखी गई हैं। उन्होंने कहा यह कांग्रेस की आम आदमी को मजबूत करने की ही सोच है कि यू.पी.ए. कार्यकाल में योजनाएं ही नहीं दी बल्कि कानूनी अधिकार भी दिए हैं ताकि देश का आम आदमी भी सशक्त हो सके। उन्होंने मनरेगा, आर.टी.आई, आर.टी.ई. व भारत निर्माण सरीखे कार्यक्रम शुरू किए हैं ताकि देश की जनता को ताकत मिले और लोकतंत्र और अधिक मजबूत हो। उन्होंने कहा कि दीपेंद्र हुड्डा सरीखे युवा नेता है जो नया हरियाणा और नया भारत बनाने का काम कर रहे हैं। केंद्रीय रेल मंत्री मुकुल राय के प्रतिनिधि ए.पी. मिश्रा ने रेल मंत्री के उपस्थित न हो पाने की क्षमा मांगते हुए रेल मंत्री के संदेश में कहा कि रेल संबंधी सभी परियोजनाओं का कार्य समय पर कर दिया जाएगा। सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने विकास रैली में कहा कि यह जींद के लोगों के लिए मुबारक मौका है। उन्होंने कहा कि जींद के इस ऐतिहासिक विकास से एक बात साफ है आज विपक्षी दलों को गर्मी के बावजूद विकास परियोजनाओं से जाड़ा चढ़ गया होगा। उन्होंने कहा कि यह रैली जींद के विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने केंद्रीय मंत्री सी.पी. जोशी का इसलिए भी आभार जताया कि उन्होंने हरियाणा में एक के बाद एक करके अनेक विकास योजनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि जहां हाइवे बनते हैं और रेल लाइन बिछती हैं वहां विकास स्वयं आता है। जींद में भी यही होगा। कनेक्टिविटी किसी भी क्षेत्र के विकास के लिए जरूरी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के समग्र विकास की बदौलत हरियाणा की विकास दर पूरे देश में 11.6 प्रतिशत के साथ सर्वाधिक है। उन्होंने इस बात पर भी चुटकी ली कि लोकसभा में एक भी सांसद न होने के बावजूद चौटाला देश और प्रदेश में मध्यावधि चुनाव की बात करते हैं। उन्होंने कहा कि चुनावों को ढाई वर्षों का समय शेष है और इस समय में विकास का यह सिलसिला इस तरह से चलता रहेगा। हरियाणा सरकार में लोकनिर्माण व उद्योग मंत्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने विकास रैली में कहा कि एक समय इनेलो का था जब इस क्षेत्र में विकास के नाम पर एक ईंट तक नहीं लगी। उन्होंने कहा कि वर्षों की लंबित मांगों से भी कहीं अधिक मुख्यमंत्री ने जींद क्षेत्र को विकास की सौगात दी है। उन्होंने कहा यह मुख्यमंत्री का इलाके के विकास के प्रति चिंतन है कि उन्होंने जींद-गोहाना-सोनीपत रेल लाइन के लिए आधा खर्च भी सरकार की ओर से वहन करने की स्वीकृति दी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के स्वर्णिम भविष्य के लिए रेल व राजमार्ग बड़ा योगदान देंगे। सिरसा के सांसद अशोक तंवर ने इस मौके पर कहा कि फोरलेन की परियोजनाओं से जींद के साथ अन्य जिलों को ही नहीं पंजाब व राजस्थान को भी बड़ा लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि उनके संसदीय क्षेत्र में शामिल जींद जिले का नरवाना हलके के लोगों को भी इन परियोजनाओं से लाभ मिलेगा। सोनीपत लोकसभा के सांसद जितेंद्र मलिक ने इस मौके पर जींद क्षेत्र के लिए विकास परियोजनाओं का पिटारा खोलने के लिए मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया। इस मौके पर शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल, कृषि मंत्री परमवीर सिंह, सी.पी.एस. प्रहलाद सिंह गिल्लाखेड़ा, जयबीर सिंह वाल्मीकि, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार प्रो. वीरेंद्र, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ0 के0के0 खण्डेलवाल, मीडिया सलाहकार सुंदरपाल, अतिरिक्त मीडिया सलाहकार श्री केवल ढिंगरा एवं श्री सुनील परती, विधायक डा. रघुबीर कादियान, श्रीकृष्ण हुड्डा, जगबीर मलिक, राम निवास घोड़ेला, पूर्व सांसद जयप्रकाश, पूर्व मंत्री प्रसन्नी देवी, बच्चन सिंह आर्य, आई.जी. शेर सिंह, दयानंद शर्मा, रामभज, छोटा सिंह चौहान, नरेंद्र सिंह, जगबीर डिगाना व प्रमोद सहवाग सहिंत अनेक गणमान्य नेता उपस्थित थे।  

 
 


 

 

 

 

 

 

 

Copyright 2011-2020 - Classic Computers.