Haryana21.com Present

     
Jind News - Jind Update

 

 

1338 करोड़ रुपये की योजनाओं के शुभारम्भ को आम जनता इसे एक सुखद भविष्य का संकेत मान रही है

 
 
June 2, 2012

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा द्वारा तीन जून को एक ही दिन में जींद जिला के विकास के लिए 1338 करोड़ रुपये की योजनाओं के शुभारम्भ को आम जनता इसे एक सुखद भविष्य का संकेत मान रही है। इलाके में जहां इस आयोजन के प्रति खासा उत्साह है, वहीं मामलों के जानकार इसे रेल व सड़क मार्ग से हर दिशा में जींद के विकास के द्वार खोलने की संज्ञा दे रहे है, क्योंकि इन नए और बड़े राजमार्गो से जींद का पंजाब, राजस्थान व दिल्ली से सीधा जुड़ाव हो जाएगा। इस मौके पर होने वाली रैली पर भी जिले की ही नहीं, पूरे प्रदेश की निगाहें लगी हुई हैं। उल्लेखनीय है कि श्री हुड्डा एवं केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री डा. सीपी जोशी रविवार सुबह जींद-सोनीपत रेल लाईन, जींद शहर के बाईपास सहित जींद-उचाना-नरवाना से पंजाब बार्डर व जींद-रोहतक के बीच के राष्ट्रीय राजमार्गो की फोर लेनिंग, जींद-हांसी रेल लाईन पर पुल, जींद-सफीदांे रोड़ से जींद-रोहतक रोड़ तक नई सड़क के शिलान्यास और राजकीय महिला कालेज व आईटीआई जींद के नए भवनों का उदघाटन करने के बाद जींद की नई अनाज मंडी में एक विशाल जन सभा को सम्बोधित करेंगे। जींद शहर के बाईपास बनने की खबर भी जनता के लिए सुखद आश्चर्य से कम नहीं है। पिछले विधानसभा चुनाव में सभी कांग्रेसी प्रत्याशियों के हार जाने के बाद आम जनता को लगने लगा था कि विकास की दौड़ में अब तक पिछड़ा रहा जींद जिला इस बार भी पिछड़ा ही बना रहेगा। लेकिन जिस प्रकार से प्रदेश के मुख्यमंत्री भूूपेन्द्र सिंह हुड्डा के अलावा कांग्रेस के लोकसभा सांसदों दीपेन्द्र सिंह हुड्डा,जितेन्द्र मलिक और अशोक तंवर ने व्यक्तिगत रूचि लेकर जींद के लिए बेहद जरूरी इन परियोजनाओं को सिरे चढ़ाया है,उससे लोगों में एक नई उम्मीद का संचार हुआ है। आम आदमी यह मानने लगा है कि मुख्यमंत्री ने इलाके के पिछडेपन को दूर करने का बीड़ा उठा लिया है और यदि वे बचे हुए कार्यकाल में इसी प्रकार लगे रहे तो यह इलाका विकास के मामले में पिछे नहीं रहेगा। वे मानते है कि जिले ने अब तक प्रदेश को मुख्यमंत्री भी दिए ,लेकिन जींद शहर और जिले के अन्य कस्बे व गांव विकास की दौड़ में पिछे छुट गए। हर चुनाव में रेल फाटक पर पुल बनाने का वायदा तो मिला लेकिन वास्तव में कुछ नहीं हुआ। 80 किलोमीटर लम्बी जींद-गोहाना-सोनीपत रेल लाईन की परियोजना में हरियाणा सरकार ने 50 प्रतिशत हिस्सा दिया है और इस प्रकार से 500 करोड़ रूपए वाली इस महत्वाकांक्षी परियोजना में हरियाणा सरकार 250 करोड़ रूपए खर्च कर रही है, जिसमें से 200 करोड़ रूपए प्रदेश सरकार द्वारा पहले ही जमा करवाया जा चुका है। जुलाना व लाखनमाजरा में बाईपास सहित रोहतक-जींद राजमार्ग को चार लेन करने की परियोजना में 283 करोड़ 31 लाख रूपए खर्च आएगा। इस रोड़ व जींद-गोहाना-सोनीपत रेल लाईन के माध्यम से जींद जिला की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से दूरी एक दम घट जाएगी जिससे इलाके में नए उद्योग व विकास की संभावनाएं बढेंगी। 462 करोड़ की लागत से होने वाले जींद-उचाना-नरवाना से पंजाब बार्डर के चार मार्गीकरण से जींद शहर के रास्ते पंजाब के लोगोें को दिल्ली जाने का एक नया रास्ता मिलेगा और क्षेत्र का विकास राष्ट्रीय राजमार्ग एक की तर्ज पर हो सकेगा। इस राजमार्ग के माध्यम से जींद शहर का 16 किलोमीटर लम्बा बाईपास व हांसी-जींद-असंध रोड़,जींद-सफीदों-पानीपत रोड़, जींद-गोहाना-पानीपत रोड़ पर तीन उपरगामी पुल भी बनाए जाएंगे। नरवाना शहर और जींद शहर में रेल लाईनों पर भी दो पुल इसी परियोजना के हिस्से के रूप में बनाए जाएंेगे। जींद-भठिण्डा रेल लाईन पर पटियाला चौंक के पास नरवाना-जींद-रोहतक रोड़ पर 72 करोड़ की लागत से बनने वाले चार मार्गीय उपरगामी पुल से भी जींद शहर के लोगों को खासी राहत मिलने की उम्मीद है।

 
 


 

 

 

 

 

 

 

Copyright 2011-2020 - Classic Computers.