Haryana21.com Present

     
Jind News - Jind Update

 

 

9 जनवरी, 2012 से खसरा प्रतिरक्षण अभियान का शुभारम्भ किया जाएगा

 
 
December 8, 2011

चण्डीगढ़-हरियाणा के दस जिलों नामत: अंबाला, फतेहाबाद, हिसार, जींद, कैथल, करनाल, कुरुक्षेत्र, पंचकूला, सिरसा और यमुनानगर में 9 जनवरी, 2012 से खसरा प्रतिरक्षण अभियान का शुभारम्भ किया जाएगा।स्वास्थ्य विभाग की वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव श्रीमती नवराज संधु, जिसने आज यहां निकट पंचकूला में खसरा प्रतिरक्षण अभियान पर स्टेट कोर ग्रुप की बैठक की अध्यक्षता की, ने कहा कि इस अभियान के फेस 2-बी के पूरा होने के उपरान्त हरियाणा अपने सभी जिलों में खसरा प्रतिरक्षण अभियान पूरा करने वाला देश का पहला राज्य बन जाएगा।बैठक में बताया गया कि राष्टï्रीय प्रतिरक्षण तकनीकी परामर्श समूह (एनटीएजीआई) की सिफारिशों पर हरियाणा के पांच जिलों नामत: फरीदाबाद, गुडग़ांव, मेवात, पलवल और झज्जर में वर्ष 2000 में खसरा प्रतिरक्षण अभियान फेस-1 संचालन किया गया, जिसके तहत 13 लाख से अधिक बच्चों का टीकाकरण किया गया।बैठक में यह भी बताया गया कि वर्ष 2011 में हरियाण के छ: जिलों नामत: भिवानी, नारनौल, पानीपत, रेवाड़ी, रोहतक और सोनीपत में खसरा प्रतिरक्षण अभियान फेस 2-ए चल रहा है। इस अभियान के दौरान हरियाणा के छ: जिलों में खसरा प्रतिरक्षण अभियान के लिए 13.33 लाख बच्चों के अनुमानित लक्ष्य के विरूद्घ 13.60 लाख बच्चों का टीकाकरण किया गया। भिवानी में 291253, नारनौल में 162888, पानीपत में 270290, रेवाड़ी में 161475, रोहतक में 185042 और सोनीपत में 289453 बच्चों का टीकाकरण किया गया। इस अभियान का मूल्यांकन डब्लयू एच ओ, यूनिशेफ, मैडिकल कॉलेज जैसी स्वतंत्र एजेन्सियों द्वारा किया गया। इन जिलों में 30 नव बर 2011 को मूल्यांकित कवरेज 92 प्रतिशत से अधिक है। छूटे हुए बच्चे, जो स्कूल गतिविधियों और पहुंच से बाहर हैं, को कवर नहीं किया गया की एक सूची बनाई गई है और इन बच्चों को कवर करने के लिए इन जिलों द्वारा एक विशेष तीन दिवसीय कार्यक्रम नियोजित किया गया है।यह पाया गया कि खसरा मृत्यु के प्रमुख पांच कारकों में से एक है। एक अनुमान के अनुसार हमारे देश में प्रति वर्ष 50 हजार से एक लाख बच्चों की मृत्यु खसरे से होती है। टीकाकरण से बच्चे छूटने और रोधक क्षमता विकसित न होने के कारण लगभग 41 प्रतिशत बच्चे खसरे के लिए अतिसंवेदनशील रहते हैं।बैठक में शिक्षा, महिला एवं बाल विकास, कर्मचारी राज्य बीमा, विकास एवं पंचायत, सूचना एवं जन स पर्क, इंडियन मैडिकल एसोसिएशन, आईएपी, पीजीआईएमएस रोहतक, एनपीएसपी-डब्लयूएचओ, रोटरी और लाइन क्लब के प्रतिनिधियों सहित विभिन्न विभागों के वरिष्ठï अधिकारी उपस्थित थे।

 
 


 

 

 

 

 

 

 

Copyright 2011-2020 - Classic Computers.